Home Suvichar in Hindi

मृत्यु दुखों का अंत नहीं है


मृत्यु दुखों का अंत नहीं है
मृत्यु दुखों का अंत नहीं है
दुखों का अन्याय और ध्यान से होता है



More Suvichar in Hindi

तुम पानी जैसे बनो जो अपना रास्ता खुद बनाता है
तुम पानी जैसे बनो जो
अपना रास्ता खुद बनाता है
पत्थर जैसे ना बनो
जो दूसरों का भी रास्ता रोक लेता है



प्रगति के अंकुर उस घर में ही फुंटते हैं
प्रगति के अंकुर उस घर में ही फुंटते हैं
जिस घर की दीवारें संकल्प से मजबूत की गई हो



सफलता असफलता की संभावनाओं के आकलन में
सफलता, असफलता की संभावनाओं के आकलन में समय नष्ट न करे
लक्ष्य निर्धारित करें और कार्य आरम्भ करें



जब दुनिया कहती है कि हार मान लो
जब दुनिया कहती है कि हार मान लो
तो उम्मीद धीरे से कान में कहती है एक बार फिर प्रयास करो



अगर आपको अपने लक्ष्य के अलावा
अगर आपको अपने लक्ष्य के अलावा
जीवन में कुछ भी दिखाई नहीं देता
तो आप अपने लक्ष्य को
आसानी से प्राप्त कर सकोगे



अज्ञानी होना गलत नहीं है अज्ञानी बने रहना गलत है
अज्ञानी होना गलत नहीं है
अज्ञानी बने रहना गलत है



कभी भी किसी जरूरतमंद को अपनी चौखट पर जलील मत कीजिए
कभी भी किसी जरूरतमंद को अपनी चौखट पर जलील मत कीजिए
क्योंकि ऊपर वाला कटोरा बदलने में देर नहीं करता



हजारों दीयों को एक ही दिए से बिना
हजारों दीयों को एक ही दिए से बिना
उसका प्रकाश कम किए जलाया जा सकता है
इसी तरहखुशी बांटने से खुशी कभी कम नहीं होती



कोई भी पीछे जाकर नई शुरुआत नहीं कर सकता
कोई भी पीछे जाकर नई शुरुआत नहीं कर सकता
पर हम सभी नई शुरुआत करके बेहतर अंत कर सकते हैं



मेरी तकदीर को बदल देंगे मेरे बुलंद इरादे
मेरी तकदीर को बदल देंगे मेरे बुलंद इरादे
मेरी किस्मत नहीं मोहताज मेरे हाँथों कि लकीरों कि