Home » Shayari in Hindi » Aukat Shayari in Hindi

Aukat Shayari in Hindi

मिला हूँ ख़ाक में ऊँची मगर औकात रखी है
मिला हूँ ख़ाक में ऊँची मगर औकात रखी है
तुम्हारी बात थी आखिर तुम्हारी बात रखी है
भले ही पेट की खातिर कहीं दिन बेच आया हूँ
तुम्हारी याद की खातिर भी पूरी रात रखी है