hindibate.com


अरब खरब धन जोड़िए करिए लाख फरेब


Download/Save

अरब खरब धन जोड़िए करिए लाख फरेब
इसे रखोगे तुम कहाँ नही कफन मै जेब

Copy   Whatsapp   Facebook


Tags    Katu Satya in Hindi

More Katu Satya in Hindi Collection


अरब खरब धन जोड़िए करिए लाख फरेब

अरब खरब धन जोड़िए करिए लाख फरेब
इसे रखोगे तुम कहाँ नही कफन मै जेब


लोग चाहते हैं कि आप बेहतर करे

लोग चाहते हैं कि आप बेहतर करे
लेकिन ये भी सत्य है कि वो कभी नहीं चाहते
कि आप उनसे बेहतर करें


जरूरी नहीं कि हमेशा बुरे कर्मों की वजह से ही दर्द

जरूरी नहीं कि हमेशा बुरे कर्मों
की वजह से ही दर्द सहने को मिले
कई बार हद से ज्यादा अच्छे होने
की भी कीमत चुकानी पड़ती है


कौन कहता है कि इंसान रंग नहीं बदलता है

कौन कहता है कि इंसान रंग नहीं बदलता है
किसी के मुंह पर एक सच बोल कर तो देखिये
एक नया ही रंग सामने आएगा


कमियां तो सब में होती है साहब

कमियां तो सब में होती है साहब
बस नजर सिर्फ दूसरों में आती है

Home » Katu Satya in Hindi » अरब खरब धन जोड़िए करिए लाख फरेब

HindiBate.CoM