hindibate.com

Phool Shayari in Hindi Collection


ये नर्म मिज़ाजी है कि फूल कुछ कहते नहीं

ये नर्म मिज़ाजी है कि फूल कुछ कहते नहीं
वरना कभी दिखलाइये काँटो को मसलकर

Home » Shayari in Hindi » Phool Shayari in Hindi

HindiBate.CoM